Paryavaran Sanrakshan Per Nibandh : पर्यावरण संरक्षण पर निबंध

Paryavaran Sanrakshan Per Nibandh

पर्यावरण पर निबंध में यहाँ हमने Paryavaran sanrakshan per nibandh, पर्यावरण के संरक्षण के बारे में छोटे बड़े सभी प्रकार के निबंध लिखे हैं. जिनमे सबसे पहले आपको पर्यावरण संरक्षण पर 100 शब्द मिलेंगे हैं उसके बाद 300, 500 और 600 शब्दों में पर्यावरण संरक्षण पर निबंध लिखा गया है. अंत में पर्यावरण पर दस वाक्य भी लिखे गए हैं.

Table of Contents

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध 100 शब्द

पर्यावरण संरक्षण हमारे जीवन के अलावा सभी प्रकार के जीवों जंतुओं के लिए बहुत आवश्यक है. हमारे चारो ओर के वातावरण व पेड़ पौधों की सुरक्षा करना प्रत्येक मानव का कर्तव्य है

आजकल पर्यावरण बहुत अधिक दूषित होता जा रहा है जो मानव जाति के लिए किसी अभिशाप से कम नहीं है.

मानव अपनी जरूरतों के लिए प्रकति को धीरे धीरे नुकसान पहुंचा रहा है जो उसके लिए एक दिन बहुत हानिकारक साबित होगा.

पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए सरकार को मजबूती से कदम उठाना चाहिए. और हमारे वातावरण को दूषित मुक्त करने की पूरी कोशिश करते रहना चाहिए.

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध 300 शब्द

Paryavaran sanrakshan per nibandh पर्यावरण संरक्षण पर निबंध, पर्यावरण का मतलब हमारे चारों ओर जो कुछ भी है उसे पर्यावरण के रूप में परिभाषित किया गया है; इसलिए, पृथ्वी पर हमारे चारों ओर का प्राकृतिक संसाधन हमारा पर्यावरण है।

हमारे जीवन के लिए पर्यावरण का स्वच्छ रहना बहुत आवश्यक है। दुर्भाग्य से, मामला यह नहीं है, बल्कि हमारा पर्यावरण दिन व दिन अस्वच्छ होता जा रहा है।

हम जिस वातावरण में रहते हैं, वह हमारे ही कर्मों से क्षतिग्रस्त हो रहा है। वातावरण प्रदूषित होता जा रहा है इसलिए आज हमें पर्यावरण संरक्षण के लिए सक्रिय कदम उठाने और इसमें युवा पीढ़ी को शामिल करने की तत्काल आवश्यकता है।

पर्यावरण को अगर सबसे ज्यादा खतरा किसी से है तो वो है प्रदूषण. क्यूंकि प्रदूषण किसी भी प्रकार का हो वो कहीं न कहीं हमारे पर्यावरण के लिए खतरनाक साबित होता है।

तो हमें प्रदूषण की तरफ ध्यान देने की बहुत जरूरत है और इसको किस तरह कम किया जा सकता है उस पर काम करने की जरूरत है।

पर्यावरण संरक्षण में छात्रों की भूमिका

paryavaran sanrakshan per nibandh पर्यावरण संरक्षण में विद्यार्थियों की अहम भूमिका होती है। वे संवेदनशील, ग्रहणशील होते हैं, और किसी भी सलाह, सुझाव को उदारता से लेते हैं। ऐसे कई स्कूल हैं जो स्वच्छता अभियानों में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं।

छात्र ऊर्जा और उत्साह से भरे हुए होते हैं और ऐसे अभियानों में उनका योगदान अतुलनीय है। साथ ही, एक छात्र जो पर्यावरण के मूल्य को समझता है, वह अपने परिवार में छोटे और बड़ों को भी यही सिखाएगा।

निष्कर्ष

यह बहुत जरूरी है कि हम अपने पर्यावरण को सुरक्षित और प्रदूषण से मुक्त रखें। इसके लिए युवा छात्रों को शामिल करना इस उद्देश्य के लिए अद्भुत काम करेगा। अगर पर्यावरण सुरक्षित रहेगा तब ही हम एक स्वास्थ्य जीवन व्यतीत कर पाएंगे और आने वाली पीढयों को बचा पायेंगे।

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध 500 शब्दों में

Paryavaran sanrakshan per nibandh- पर्यावरण संरक्षण पर निबंध, हमारे चारों ओर जो कुछ भी है वह हमारे पर्यावरण के रूप में वर्णित है। इस परिभाषा के अनुसार, हमारे प्राकृतिक पर्यावरण में वायु, मिट्टी, जल, जंगल, पौधे, पहाड़ियाँ, महासागर, जल निकाय आदि शामिल हैं। इसलिए पर्यावरण की रक्षा करना हमारे अपने हित में है।

इस निबंध में, हम पर्यावरण में सुधार के तरीकों और पर्यावरण संरक्षण में छात्रों की भूमिका पर चर्चा करेंगे। और जानेगे कि पर्यावरणीय स्वास्थ्य में सुधार कैसे करें?

पर्यावरण की स्थिति को सुधारने के कई तरीके हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण नीचे सूचीबद्ध हैं –

रीसायकल और पुन: उपयोग

(Paryavaran sanrakshan per nibandh) पर्यावरण को प्रदूषित करने वाले बहुत सारे कचरे में डंप किए गए घरेलू सामान होते हैं जो अब उपयोग में नहीं हैं, जैसे – प्लास्टिक और कांच की बोतलें, टिन के डिब्बे, टूटे हुए कंप्यूटर, या अन्य प्लास्टिक की वस्तुएं, कपड़े आदि। ये अपशिष्ट पदार्थ मिट्टी और पानी तक पहुंच जाते हैं।

और वर्षों तक वहाँ रह सकते हैं, उन्हें प्रदूषित कर सकते हैं और उनकी गुणवत्ता को कम कर सकते हैं। यदि हम कचरे को पर्यावरण में फेंकने के बजाय पुनर्चक्रण का एक सरल कदम उठाते हैं, तो हम पर्यावरण को बचाने का एक बड़ा काम कर रहे होंगे।

इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि हम पर्यावरण संरक्षण के लिए कोई अधिक खर्चा भी नहीं कर रहें हैं और साथ में पर्यावरण की सुरक्षा हो रही है और अपना काम भी चल रहा है।

किसी भी हालात में हमें हरे पेड़ों को कभी नहीं काटना चाहिए क्यूंकि हम पेड़ लगा तो सकते हैं लेकिन इतनी जल्दी उसे बड़ा नहीं कर सकते हैं।

जंगलों को बचाएं

पेड़ वातावरण के फेफड़े हैं; इसलिए, पर्यावरण के बहुत आवश्यक सदस्य। वे फिल्टर के रूप में भी काम करते हैं और किसी स्थान के वायु गुणवत्ता सूचकांक को उच्च रखते हैं। वे कार्बन डाइऑक्साइड का उपभोग करते हैं और जीवन-आवश्यक ऑक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं। उन लाखों जीवन रूपों का उल्लेख करने की आवश्यकता नहीं है जिनको पेड़ ही जीवित रखे हुए हैं जैसे – पक्षी, कीड़े, सरीसृप, आदि। हम जितना अधिक पेड़ बचाएंगे, हम पर्यावरणीय स्वास्थ्य में सुधार की दिशा में बहुत कुछ कर रहे होंगे।

कूड़े करकट मत करो

आप में से कितने लोगों ने समुद्र तटों, स्मारकों और बाज़ार जैसे स्थानों पर प्लास्टिक की थैलियों, बोतलों, खाद्य पैकेजों आदि को देखा होगा। कूड़ा पर्यावरण के लिए सबसे अधिक हानिकारक है क्योंकि यह केवल सड़ता है और इसे प्रदूषित करता है। पर्यावरण को बचाने के लिए हम जो सबसे अच्छा कर सकते हैं, वह है कूड़ा-करकट न करना। कूड़े को डस्टबिन में ठीक से डिस्पोज करने की आदत डालें। यदि आप अपने आस-पास एक नहीं देखते हैं, तब तक प्रतीक्षा करें जब तक कि आप एक को न देख लें।

शिक्षित करें और प्रेरित करें

हमें शिक्षित करना चाहिए और दूसरों को पर्यावरण के बारे में जागरूक करना चाहिए और इसे कैसे संरक्षित किया जा सकता है। युवाओं और बच्चों को पढ़ाने पर विशेष जोर दिया जाए। जब छोटे बच्चों को पर्यावरण के मूल्य के बारे में सिखाया जाता है, तो वे बड़े होने पर इसके महत्व को स्वीकार करेंगे। हमें पेड़ लगाकर और स्वच्छता अभियान चलाकर दूसरों को भी प्रेरित करना चाहिए।

पर्यावरण पर निबंध 600 शब्द

प्रस्तावन:- Paryavaran sanrakshan per nibandh सरल शब्दों में, पर्यावरण हमारे चारों ओर की हर चीज को संदर्भित करता है। पेड़, पौधे, जंगल, नदियाँ और सभी हमारे प्राकृतिक पर्यावरण हैं।

दुर्भाग्य से, मानवीय गतिविधियों के कारण हमारा यह प्राकृतिक पर्यावरण खतरे में है। मनुष्य प्रतिदिन पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है, इसके संरक्षण की आवश्यकता पर दबाव डाल रहा है।

इस निबंध में, हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि सबसे पहले हमें पर्यावरण की रक्षा करने की आवश्यकता क्यों है और हम इसे कैसे कर सकते हैं।

हमें पर्यावरण भोजन देता है

हमारा पर्यावरण हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन का प्रमुख स्रोत है। अनाज, अनाज से लेकर फल, सब्जियां आदि सब कुछ पर्यावरण में पैदा होता है।

क्या इतनी बड़ी आबादी के लिए इतनी प्रचुर मात्रा में खाद्य आपूर्ति के बिना जीवित रहना संभव होगा? पर्यावरण को नुकसान पहुंचाकर हम केवल अपनी खुद की खाद्य आपूर्ति में बाधा डाल रहे हैं।

आपूर्ति आवश्यक जीवन तत्व (प्राकृतिक संसाधन)

पर्यावरण हमें जीवन के लिए आवश्यक दो अत्यंत आवश्यक तत्व देता है- वायु और जल। हम सभी को जीने के लिए हवा की जरूरत होती है, चाहे वह जानवर हों, पौधे हों या जलीय जंतुओं को भी ऑक्सीजन और ताजी हवा की जरूरत होती है।

पानी एक और बुनियादी जीवनदायी तत्व है। यदि हम अपने पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं, तो हम स्वच्छ हवा और पानी की अपनी आपूर्ति में कटौती कर रहे हैं।

आजीविका बनाए रखता है

दुनिया भर में अरबों लोग अपनी आजीविका के लिए पर्यावरण पर निर्भर हैं। उन्होंने इतने सारे संसाधनों से व्यवसाय शुरू किया है जो पर्यावरण प्रदान करता है। किसान, फल ​​विक्रेता, मछुआरे आदि सभी जीविका के लिए पर्यावरण पर निर्भर हैं।

पूर्ण पारिस्थितिकी तंत्र का समर्थन करता है

एक संतुलित और गैर-क्षतिग्रस्त वातावरण पूरे पारिस्थितिकी तंत्र का इस तरह से समर्थन करता है कि ग्रह जीवन का सहायक बन जाता है। एक संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र के साथ, जीवन फलता-फूलता है, और प्रजातियों का विस्तार होता है।

पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए 5 उपाय

Paryavaran sanrakshan per nibandh में अब नीचे हम पर्यावरण की रक्षा के पांच आसान तरीकों के बारे में जानेंगे –

1) नियंत्रण अपशिष्ट

कचरे का अनुचित निपटान आज की मुख्य समस्या है जिससे पर्यावरण को खतरा है। कचरा पर्यावरण में फैलता है, मिट्टी, पानी और हवा में जाकर उन्हें प्रदूषित करता है। पर्यावरणीय क्षति को कम करने के लिए उचित अपशिष्ट निपटान तकनीकों को नियोजित किया जाना चाहिए।

2) बारिश के पानी का संग्रहण

जल, चाहे सतही हो या भूमिगत जल, एक आवश्यक संसाधन है जो पर्यावरण के समग्र स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। अगर पानी सूख जाता है, तो पर्यावरण भी सूख जाएगा। पानी और पर्यावरण को बचाने के लिए वर्षा जल संचयन एक अच्छा विकल्प है।

3) इको-फ्रेंडली बनें

पर्यावरण के प्रति जागरूक होना हमारे लिए पर्यावरण के सर्वोत्तम हित में होगा। हम प्लास्टिक के बजाय बायो-डिग्रेडेबल कैरी बैग का उपयोग करके, पेपर बैग का उपयोग करके, पेड़ लगाकर, स्वच्छता अभियानों में भाग लेकर और भी बहुत कुछ कर सकते हैं।

4) केमिकल्स से रहें दूर

जहां तक ​​संभव हो रसायनों के प्रयोग से बचें, मुख्यतः कृषि क्षेत्र में। यदि इसे टाला नहीं जा सकता है तो कम से कम यह सुनिश्चित करें कि कोई भी रसायन पर्यावरण में न पहुंचे और उपयोग के बाद निष्प्रभावी हो जाए।

5) वाहनों का इस्तेमाल कम करें

वाहन आज पर्यावरण प्रदूषण का मुख्य स्रोत बन गए हैं। निकास वातावरण में जहरीली और हानिकारक गैसों का उत्सर्जन करता है। यदि हम वाहनों का उपयोग केवल तभी करते हैं जब यह अपरिहार्य हो, तो हम पर्यावरण को स्वच्छ और स्वस्थ बनाने में मदद करेंगे। आज हमें साइकिल चलाने या पैदल चलने की बहुत अधिक आवश्कता है।

निष्कर्ष

Paryavaran sanrakshan per nibandh यह हमारे देश की ही समस्या नहीं बल्कि पूरे विश्व की समस्या है। हर वर्ष विश्व वर्यावरण दिवस 26 नवम्बर के दिन मनाया जाता।

पर्यावरण वह जगह है जहां हम रहते हैं और इसे गंदा करना आखिरी चीज होगी जो आप करना चाहेंगे। पर्यावरण को स्वच्छ और जीवन के लिए सुरक्षित रखना हमारा कर्तव्य है – न कि अपने बल्कि अन्य जीवित प्रजातियों के लिए भी। इसलिए पर्यावरण को सुरक्षित रखें।

पर्यावरण संरक्षण पर 10 वाक्य

  1. प्लास्टिक की थैलियों और उत्पादों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाएं।
  2. सुनिश्चित करें कि आपके घरेलू कचरे का उचित माध्यम से निपटान किया जाता है।
  3. कूड़ा इधर उधर डालना बंद करें और दूसरों को भी इसे रोकने के लिए प्रेरित करें।
  4. रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों का प्रयोग न करें, बल्कि जैविक खाद का प्रयोग करें।
  5. स्वचालित वाहन का उपयोग कम से कम करें क्योंकि इनसे निकलने वाली गैसें वायु के सबसे बड़े प्रदूषक हैं।
  6. वनों को बचाओ और पेड़ लगाओ क्योंकि कहा जाता है कि पेड़ पौधे पर्यावरण के फेफड़े हैं।
  7. भूजल या सतही जल का उपयोग कम से कम करें।
  8. अपने चारो तरफ साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखें क्यूंकि अगर सभी लोग साफ सफाई की तरफ ध्यान देंगे तो इससे वातावरण साफ़ रहेगा।
  9. पालतू जानवरों के मृत शरीर को जमीन में दाबना चाहिए।
  10. सरकार को भी पर्यावरण के बचाओ के लिए काफी ध्यान देना चाहिए और नई तकनिकी द्वारा पर पर और काम करना चाहिए।
दोस्तों के साथ शेयर करें
Shanu khan
Shanu khan

Hi dear Reader !
I’m Shanu Ali Khan from Uttar Pradesh; my qualification is postgraduate. I am founder of hindieducation[dot]in site. I’m freelancer as well as Hindi writer.

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *