Eid Essay in Hindi : ईद पर निबंध 250, 500 शब्द व 10 लाइन

ईद पर निबंध 250 शब्दों में

ईद पर निबंध- ईद उल-फित्र एक प्रमुख मुस्लिम त्योहार है जो पूरे विश्व में धूमधाम से मनाया जाता है. यह त्योहार रमदान महीने के बाद मनाया जाता है और यह मुस्लिम समुदाय के लिए आनंद, उम्मीद और खुशी का प्रतीक है.

यह त्योहार रमदान महीने के ज़कात उल-फित्र के रूप में जाना जाता है, जिसमें मुसलमान धनराशि ज़कात (दान) करके गरीबों और जरूरतमंद लोगों की मदद करते हैं. यह दानशीलता का भाव बढ़ाता है और समाज में समानता और उच्चता को स्थापित करता है.

ईद उल-फित्र का दिन नमाज़, खानपान और उत्साहभरे मिलन-जुलन के साथ बिताया जाता है. लोग अपने परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों के साथ खुशियों के लिए मिलते हैं, गले मिलते हैं और एक दूसरे को मुबारकबाद देते हैं. खान-पान, मिठाई खाना, गिफ्ट एक दूसरे को देना और खुशी का आनंद लेना इस त्योहार का महत्वपूर्ण हिस्सा है.

ईद उल-फित्र समाज में सौहार्द और एकता की भावना को प्रोत्साहित करता है. यह एक मौका है जब लोग भाईचारे, प्रेम और सम्मान के भावनात्मक आपसी रिश्तों को मजबूत करते हैं.

इसके अलावा, ईद उल-फित्र हमें संयम, धैर्य और आत्मनिर्भरता की महत्वपूर्णता को सिखाता है. यह एक प्रेरणादायक त्योहार है जो हमें अपने धार्मिक आदर्शों का सम्मान करने के साथ ही दूसरों के साथ खुशहाली की भावना और सहयोग को बढ़ाने की प्रेरणा देता है.

ईद उल-फित्र एक उत्सव, प्रेम, एकता और संयम का संदेश देता है. यह हमें धार्मिक और सामाजिक मूल्यों के प्रति संवेदनशीलता विकसित करने के लिए प्रेरित करता है और हमें खुशहाल और समृद्ध समाज की ओर अग्रसर करने के लिए प्रोत्साहित करता है.

Eid Essay in Hindi 500 शब्दों में

प्रस्तावना:- Eid Essay in Hindi – ईद उल फ़ित्र इस्लाम धर्म का प्रमुख त्योहार है जो साल में एक बार आता है. वैसे तो इस्लाम धर्म को मानने वाले एक वर्ष में तीन तरह की ईद मनाते हैं. जो इस प्रकार हैं – ईद उल फ़ित्र, ईद उल अजाह (बकरा ईद) और ईद मिलाद उन नबी.

ईद पर निबंध में आज हम ईद उल फ़ित्र की बात करेंगे. ईद का त्योहार इस्लामी कैलंडर के शव्वाल के महीने की पहली तारीख को मनाया जाता है. जो इस्लामी कैलंडर का दसवां महीना होता है.

इससे पहले रमज़ान शरीफ का मुबारक माह आता है और इस महीने के जाने के बाद ईद मनाई जाती है. इस्लाम धर्म में रमज़ान शरीफ का मुबारक महीना अन्य सभी माह के मुकाबले सबसे अफ़जल माना जाता है.

ईद उल फ़ित्र का महत्व

ईद उल फ़ित्र पर निबंध में ईद का बहुत महत्व है. वैसे तो अन्य धर्मो की तरह इस्लाम धर्म में भी लगभग हर महीने कोई न कोई त्योहार होता है. लेकिन ईद का त्योहार एक खास मुकाम रखता है.

यह त्योहार खुशियों का त्योहार है इसमें लोग आपस में गले मिलकर एक दूसरे के साथ खुशियाँ बाँटते हैं. चारो तरफ ख़ुशी का माहौल दिखाई देता है.

इस बेहतरीन पर्व पर परदेश में रहने बाले लोग अपने घर आ जाते हैं. और अपनों के साथ मिलकर ईद का त्योहार मनाते हैं.

ईद के त्योहार पर लोग अपने व अपने बच्चों और बड़ों के लिए नए नए कपडे व उपहार खरीदते हैं. और एक दुसरे को ईदी के तौर पर चीजें गिफ्ट करते हैं.

ईद उल फ़ित्र कैसे मनाई जाती है?

ईद उल फ़ित्र पर लोग बहुत खुश दिखाई देते हैं. यह त्योहार रात को चाँद देख कर सुबह से मनाना शुरू हो जाता है. सुबह को लोग उठकर नहा धोकर नए नए कपडे पहनते हैं.

इसके बाद नाश्ता वगैरा करके ईदगाह व मस्जिदों में इकट्ठे हो जाते हैं और एक साथ बहुत सारे लोग नमाज़ अदा करते हैं.

ईद की दो राअकत नमाज़ अदा करके अल्लाह से दुआ मांगते हैं. दुआ करने के बाद एक दूसरे से गले मिलकर आपसी भाईचारा कायम करते हैं.

यह भी पढ़ें;- हेमंत ऋतु पर निबंध

घरों में तरह तरह के पकवान बनते हैं जिसमे विशेष तौर पर सेवंइ व फेनी आदि बनती हैं. जो लोगों को बहुत पसंद आती हैं

ईदगाह व मस्जिद से लौटने के बाद अपनों के साथ समय बिताते हैं. और अपने रिश्तेदारों के यहाँ भी जाते हैं.

ईद उल फितर क्या संदेश देता है?

ईद उल-फित्र सभी मुसलमानों को खुशी, आनंद और उम्मीद की मुबारकबाद देता है. यह त्योहार एकता, मेल-जोल की भावना को प्रोत्साहित करता है. लोग एक दूसरे को मुबारकबाद देते हैं, गले मिलते हैं और आपसी मोहब्बत का प्रदर्शन करते हैं. यह संदेश आदर्शों, संयम के साथ आपसी सहयोग और सम्मान की महत्वपूर्णता को प्रतिष्ठित करता है.

ईद उल-फित्र दानशीलता, सामाजिक न्याय और समानता के महत्व को बढावा देता है. जैसा कि ज़कात उल-फित्र के रूप में जाना जाता है, लोग गरीबों और जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए धनराशि का दान करते हैं.

यह संदेश हमें यह याद दिलाता है कि हमें अपनी समाज की गरीबी और जरूरतों के प्रति संवेदनशील होना चाहिए और उन्हें सहायता प्रदान करने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए.

ईद उल-फित्र समाज में सौहार्द, प्रेम और एकता की भावना को प्रोत्साहित करता है. यह एक मौका है जब परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों के साथ एकता का जश्न मनाया जाता है.

लोग आपस में गले मिलते हैं, एक दूसरे को मुबारकबाद देते हैं और उत्साहपूर्वक आपसी मेल-जोल का आनंद लेते हैं. इससे सामाजिक समरसता, भाईचारा और मेलमिलाप बढ़ता है.

उपसंहार

ईद उल फ़ित्र रमजान के महीने के रोज़े रखने के बाद मनाया जाता है. रमज़ान के पूरे महीने मुस्लिम समुदाय के लोग अल्लाह की रोज़े नमाज़ के साथ साथ गरीबों की मदद भी करते हैं.

और ईद के दिन भी गरीबों में खैरात, ज़कात (दान) करना यह भी ईद का एक हिस्सा माना जाता है. जो हमें बहुत उत्साहित करता है.

यह था ईद उल फ़ित्र पर निबंध जो आप 500 और 600 तक के शब्दों के लिए पढ़ सकते हैं. अब इसके बाद ईद उल फ़ित्र पर निबंध 250 शब्दों में मिलेगा. जो निम्नलिखित है.

ईद उल फ़ित्र पर निबंध 10 लाइन

  1. ईद उल-फित्र, मुस्लिम समुदाय का प्रमुख त्योहार है.
  2. यह त्योहार रमदान महीने के बाद मनाया जाता है.
  3. इस दिन मुसलमान खुशी और उम्मीद का अनुभव करते हैं.
  4. दिन की शुरुआत ईद की नमाज़ के साथ होती है.
  5. मस्जिदों व ईदगाह में लोग मिलकर नमाज़ पढ़ते हैं फिर लोग आपस में मिलते हैं और मुबारकबाद देते हैं.
  6. बच्चे उत्साहपूर्वक इस त्योहार का स्वागत करते हैं. वे नए कपड़े पहनते हैं और गिफ्ट भी प्राप्त करते हैं.
  7. इस दिन सभी अपने दोस्तों और पड़ोसियों को मिलते हैं. ईद उल-फित्र धर्मिक त्योहार होने के साथ-साथ सामाजिक त्योहार भी है.
  8. दानशीलता और धनराशि के दान की प्रेरणा भी ईद उल-फित्र का महत्वपूर्ण हिस्सा है. इस दिन लोग गरीबों और जरूरतमंद लोगों की मदद करते हैं.
  9. ईद उल-फित्र समाज को संयम, आत्मनिर्भरता और समानता की महत्वपूर्णता को याद दिलाता है.
  10. इस त्योहार के माध्यम से मुसलमान अपने धार्मिक मूल्यों और संस्कृति का गर्व महसूस करते हैं.
दोस्तों के साथ शेयर करें
Shanu khan
Shanu khan

Hi dear Reader !
I’m Shanu Ali Khan from Uttar Pradesh; my qualification is postgraduate. I am founder of hindieducation[dot]in site. I’m freelancer as well as Hindi writer.

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *